Posts

Showing posts from March, 2018

पहरा

एक   रात ,  पलक   झपकते मैंने   रात   से   पूछा , जब   मैं   सोती   हूँ , तो   तू   क्यूँ   पहरा   देती   है ? वो   कहती   है ,’  तेरे   यह   जो   अनेक   सपने   है ,  कभी   मद्धम , कभी   एकाएक   तेरे   सिर्हाने   आते   है , फिर   तेरी   पलकों   से   यूँ   निरझर   बहते   है। गर ,  देर   सवेर   तू   उन्हें   भूला   भी   दे , तेरी   परछाईं   बन   तेरा   साथ   निभाते   है , उनकी   भी   एक   आस   है ,  कि   कभी   इस   निशा   से   कहीं   दूर , किसी   दिन   वो   भी   उजाला   देखेंगे की   तुझे   अपने   होने   पे   हो   सके   गुरूर , उस   मुकम्मल   घड़ी   की   वज़ह   बनेंगे। ’ जब   तक   सो   सके   तो   सोती   रह   पर , जिस   रात   तू   सो   ना   पाए   इन   अधूरे   सपनो   के   आवेग   में उस   रात   की   ताक   में   मैं   पहरा   देती   हूँ।