मुझे नहीं पता



तुम,
महज़ एक अलफ़ाज़,
या हवा को चीरती हुई एक गूँज?
सावन के पत्ते की कम्पन,
या मेरी स्मृतियों में चढ़ती हुई बारीक धूल ?
मुझे नहीं पता ৷

तुम,
कोरे कागज़ की सूखी स्याही ,
या डूबते सूरज की आख़िरी ख़्वाहिश?
सांझ में दो दिलों की उठती-गिरती तरंग,
या  किसी मरुस्थल में टूट के पड़ी झमझमाती बारिश ?
मुझे नहीं पता ৷

तुम,
मेरे ज़हन में कोई पनपता एह्साह ,
जिसका अस्तित्व भी शायद है एक कल्पना,
अलफ़ाज़ दू उसे , तो वो नश्वर,
रखु  गुप्त, तो एक अप्रत्यक्ष  वेदना
मुझे नहीं पता ৷

तुम,
जितना मैं  तुम्हारे करीब हूँ ,
उतनी ही तुम मुझसे ओझल हो,
जिन आँखों ने तुम्हे तलाशा उम्र भर,
आज उन्ही आँखों को तुम बोझल हो ৷


शायद मुझे है पता  कि  तुम कौन हो,
बस दीदार करने की चेष्ठा नहीं है,
आज एक मदहोशी है , तुम्हारी खुमारी है,
और इस खुमारी से विचलित होने की अभी इच्छा नहीं है ৷


Comments

Ankita said…
These are indeed great thoughts, written so well
Rahul Bhatia said…
बहुत सुन्दर भाव

Popular posts from this blog

THE UMBILICAL CORD

And, that's the Thing about Feelings